अयोध्या मामलाः फैसले से पहले प्रशासन सतर्क, बनाई गईं 4 अस्थाई जेल

0
1



अयोध्या प्रकरण में सुप्रीमकोर्ट के प्रस्तावित फैसले को लेकर हमीरपुर जिले में प्रशासन ने तैयारी पूरी कर ली हैं. प्रशासन ने जनपद की चार तहसीलों में अस्थायी जेल बनाई हैं. जिला मुख्यालय और तहसील मुख्यालयों के इण्टर कालेज में अस्थायी जेल होंगी. उधर, सुरक्षा के लिये एक कम्पनी पीएसी व अन्य फोर्स की मांग की गयी है जिसमें सौ रिक्रूट आरक्षी मिलने की संस्तुति भी दे दी गयी है.  अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी होने के बाद किसी भी दिन फैसला आने की उम्मीद है. फैसले को लेकर प्रशासन दोनों वर्गों के लोगों के साथ बैठक कर शांति बनाए रखने और अदालती फैसले का स्वागत करने की अपील कर रहा है. अराजकतत्वों व सोशल मीडिया पर भी नजर रखी जा रही है.  अफवाह फैलाने वालों पर कार्रवाई की जाएगी. इसको सभी तहसीलों में अस्थायी जेल बनाई जा रही हैं. एडीएम विनय प्रकाश श्रीवास्तव ने बताया कि मुख्यालय में इस्लामियां इंटर कालेज, मौदहा में नेशनल इंटर कालेज, सरीला में शल्लेश्वर इंटर कालेज व राठ में बीआरबी इंटर कालेजों को अस्थायी जेल बनाने को चिन्हित किया है.  एएसपी एसके सिंह ने बताया कि एक कंपनी पीएसी की मांग की गई है. उन्होंने बताया कि अभी तक 100 रिक्रूट आरक्षियों के मिलने की संस्तुति आई है. शनिवार तक रिक्रूट आरक्षी मुख्यालय पहुंच जाएंगे. उन्होंने सभी से आपसी सौहार्द बनाए रखने की अपील की है. रामलला के दर्शन अवधि में की गई बढ़ोत्तरी   रामलला दर्शन के अवधि में शुक्रवार को बढ़ोतरी कर दिया गया है. रामनगरी में भारी भीड़ देखते हुए जिला प्रशासन ने शुक्रवार को  यह बदलाव किया. दर्शन की दोनों पालियों में आधे आधे घंटे का समय बढ़ा दिया गया है.  अब प्रथम पाली में सुबह 7 बजे से 11:30 बजे तक रामलला के दर्शन हो सकेंगे.  द्वितीय पाली में दोपहर 12:30 से शाम 5 बजे तक राम के दर्शन हो सकेंगे. यह आदेश 11 नवंबर से 12 नवंबर तक लागू रहेगा. इसके बाद पूर्ववत: समय लागू रहेगा. .. Like this:Like Loading…