Home जॉब आखिर क्यों अब IIT में सीखी जा रही हैं शायरी, कारण बड़ा दिलचस्प

आखिर क्यों अब IIT में सीखी जा रही हैं शायरी, कारण बड़ा दिलचस्प

0
आखिर क्यों अब IIT में सीखी जा रही हैं शायरी, कारण बड़ा दिलचस्प

[ad_1]

आखिर क्यों अब IIT में सीखी जा रही हैं शायरी, कारण बड़ा दिलचस्प

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) के बारे में सभी जानते हैं कि यह इंजीनियरिंग के लिए देश का सबसे बड़ा संस्थान माना जाता हैं। लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि अब IIT में इंजीनियरिंग के अलावा स्टूडेंट्स के द्वारा शायरी भी सीखी जा रही हैं। ये है भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान गांधीनगर (IIT Gandhinagar)। गुजरात स्थित आईआईटी गांधीनगर के छात्रों के बीच शायरी सीखने और शब्दों से दोस्ती करने का चलन बढ़ा है। इसका कारण है कि वहां के छात्रों को अलग-अलग भाषाएं सिखाई जा रही हैं। कई छात्रों ने उर्दू को अन्य भाषा (Elective course) के रूप में चुना है तो कई ने फ्रेंच को।

इस संबंध में छात्र अपने अनुभव भी साझा कर रहे हैं। अहमदाबाद मिरर की रिपोर्ट के अनुसार एक छात्र ने कहा कि ‘मुझे लगता है कि मैथ्स (Maths) भी शायरी की तरह ही है। शायरी के लिए भी मैथ्स की तरह ही रिसर्च की जरूरत है।’

छात्रों का कहना है कि भाषा की बेहतर जानकारी बेहद जरूरी है। क्योंकि इसके जरिए आपको अपना आइडिया सही तरीके से दुनिया के सामने रखने, लोगों को अपनी बात समझाने में मदद मिलती है।

वहीं, एक अन्य छात्रा का कहना है कि भाषाओं का ज्ञान उन्हें उनके डर से निपटने में मदद कर रहा है। आईआईटी (IIT) जैसे संस्थानों में जहां छात्र तकनीकी पढ़ाई में उलझे रहते हैं, वहां इस तरह की गतिविधियों से छात्रों को अपना व्यक्तित्व निखारने में काफी मदद मिलती है।

[ad_2]