गर्भावस्था में पानी वाला नारियल फायदेमंद या सूखा नारियल?

0
38


नारियल एक ऐसा फल है जो हर प्रकार से हर व्यक्ति के लिए फायदेमंद है। नारियल की उपज प्रमुख रूप से तटीय क्षेत्रों में होती है। नारियल मूत्राशय शोधक, ग्राही, पुष्टिकारक, बलवर्धक, रक्तविकार नाशक, दाहशामक तथा वात-पित्त नाशक है। नारियल की तासीर ठंडी होती है। हिन्दू धर्म में नारियल को पूजा पाठ, हवन इत्यादि में विशेष रूप से इस्तेमाल किया जाता है।

नारियल की दो क़िस्म :

यह दो प्रकार के होते है, एक तो पानी वाला नारियल, दूसरा सूखा नारियल जिसे हम आम भाषा में गोला-गरी के नाम से भी जानते है। पानी वाले नारियल का पानी जब कुदरती रूप से सुख जाता है तो वह सूखे नारियल में बदल जाता है।  पानी वाला नारियल ताजा होता है और सूखा नारियल कई दिन पुराना होता है।

गर्भावस्था में नारियल खाने के फायदे:

इसे भी पढ़ें

  • गर्भावस्था में नारियल का इस्तेमाल आप किसी भी रूप में कर सकते है, चाहें नारियल का पानी हो, कच्चा नारियल, या नारियल की मलाई।
  • नारियल के सेवन से पानी की कमी नहीं होती और गर्भवती महिला को हाइड्रेट रखता है।
  •  प्रेगनेंसी की शुरूआती दिनों में घबराहट, जी मचलना आदि से छुटकारा मिल जाता है अगर नारियल पानी का सेवन करें।
  • नारियल में वसा नहीं होता, प्रेगनेंसी में नारियल खाने से अच्छे कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने में मदद मिलती है।
  • नारियल एंटी फंगल, एंटी वायरल, एंटी बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होता है, गर्भवती महिला और बच्चे की इम्युनिटी को बढ़ाता है।
  • जिन गर्भवती महिलाओं को ज्यादा थकान महसूस होती है, उनके लिए नारियल बहुत ही फायदेमंद होता है।
  • प्रेगनेंसी में महिलाओं के हार्मोन्स में परिवर्तन के कारण, उनका मुड़ बदलता रहता है।  नारियल का सेवन करने से गर्भवती महिलाओं का मुड़ अच्छा रहता है।
  • नारियल खाने से गर्भवती महिलाओं का पाचन शक्ति सुधरती है और पेट सम्बन्धी समस्याओं में राहत मिलती है।
  • नारियल में लैक्टिक एसिड होता है, जो प्रेगनेंसी और स्तनपान के दौरान दूध का निर्माण करने में सहायक होता है।

गर्भावस्था में कौनसा नारियल ज्यादा फायदेमंद :

  • सूखे नारियल की तासीर गर्म होती है। प्रेगनेंसी के शुरूआती दिनों में सूखा नारियल पेट में गर्मी कर सकता है।
  • सूखे नारियल में सारा पानी सूखने से तेल ज्यादा होता है, जिसके कारण उसमे वसा भी ज्यादा होता है।
  • नारियल को कई दिनों तक स्टोर करने के बाद सूखे नारियल में तब्दील किया जाता है तो ज्यादा दिनों की स्टोरेज के कारण कीटाणु होने की सम्भावना बढ़ जाती है।
  • गर्भवस्था में ज्यादा मात्रा में सूखा नारियल खाने से पेट सम्बंधित बीमारियां बढ़ने की सम्भावना बनी रहती है।

ताजा नारियल या पानी वाला नारियल गर्भावस्था के दौरान हर तरीके से फायदेमंद है, फिर भी कभी पानी वाला नारियल ना मिले तो आप सूखे नारियल का इस्तेमाल कर सकती है। प्रेगनेंसी के आखिरी महीनें में सूखे नारियल का इस्तेमाल डिलीवरी के लिए फायदेमंद होता है।