चीन ने विधायिका भवन में तोड़फोड़ की आपराधिक जांच करने को कहा

0
1



चीन ने सोमवार को हांगकांग की विधायिका भवन में प्रदर्शनकारियों के प्रवेश करने और उस पर एक तरह से कब्जा जमाने की घटना की आपराधिक जांच करने को कहा है. इस घटना को ड्रैगन अपनी अधिसत्ता को चुनौती देने के तौर पर मान रहा है. पिछले कुछ हफ्तों से अर्द्धस्वायत व्यावसायिक एवं वित्तीय केंद्र हांगकांग राजनीतिक संकट से जूझ रहा है. प्रत्यर्पण विधेयक को पूर्ण रूप से रद्द करने की मांग को लेकर बड़ी संख्या में युवक प्रदर्शन कर रहे हैं. दरअसल इस विधेयक में प्रावधान है कि हांग कांग के संदिग्धों को मुकदमा का सामना करने के लिए चीन भेजा जाएगा. इस वजह से बीजिंग के प्रति लोगों में आक्रोश है. हांग कांग चीन को सौंपे जाने की 22 वीं वर्षगांठ पर युवा प्रदर्शनकारियों का ड्रैगन के खिलाफ आक्रोश फूट पड़ा और उन्होंने विधान सभा पर धावा बोल दिया. इन लोगों ने सदन में औपनिवेशिक काल का झंडा फहरा दिया और हांग कांग के प्रतीक चिन्ह को स्प्रे पेंट से बदरंग कर दिया. इतना ही नहीं दीवारों पर संदेश भी लिख दिया कि हांग कांग चीन का हिस्सा नहीं है. विधायिका भवन को फिर से बजे लेने के लिए के पुलिस ने सामवार आधी रात को कार्रवाई शुरू की. यह घटना राष्ट्रपति शी जिनपिंग के लिए अभूतपूर्व चुनौती के रूप में देखी जा रही है. चीन ने बिना समय गंवाए हांग कांग से इस घटना की आपराधिक जांच शुरू करने और हिंसक प्रदर्शनकारियों को जिम्मेवार ठहराने को कहा है. .. / कृष्ण शेयर करें