जब RSS ने बदल दिया था ‘कांग्रेस’ का नाम…

0
1



राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) से कांग्रेस (Congress) का हमेशा से ही 36 का आंकड़ा रहा है. कांग्रेस ने संघ पर एक नहीं बल्कि तीन बार प्रतिबंध भी लगाए. राहुल गांधी (Rahul Gandhi) अक्सर सार्वजनिक मंचों से संघ की विचारधारा पर सवाल उठाते रहते हैं. कांग्रेस से दुश्मनी निभाते हुए संघ ने कांग्रेस का नाम ही बदल दिया. कभी कांग्रेस के नाम से जाने जाने वाले आज स्वतंत्र देव सिंह के नाम से मशहूर हैं. बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि उनका नाम पहले कांग्रेस सिंह था. उनके नाम को लेकर संघ में काफी कंफ्यूजन होता था. संघ में उनका नाम स्वतंत्र देव सिंह रख दिया गया. उनको यह नाम उनके ही अखबार के नाम से मिला. पत्रकार रह चुके हैं स्वतंत्र देव वे कभी पत्रकारिता किया करते थे. छात्र राजनीति के बीच वह 1989-90 में ‘स्वतंत्र भारत’ अखबार से जुड़े. उरई में वह इसके रिपोर्टर रह चुके हैं. ‘स्वतंत्र भारत’ में काम करने के चलते ही उनका नाम स्वतंत्र रखा गया. बाद में उन्हें स्वतंत्र देव सिंह के नाम से जाना जाने लगा. स्वतंत्र देव सिंह पर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भरोसा जताते हुए यूपी बीजेपी का नया अध्यक्ष नियुक्त किया है. ओबीसी समुदाय से आने वाले स्वतंत्र देव सिंह RSS के भी करीबी माने जाते हैं. मिर्जापुर में हुआ जन्म स्वतंत्र देव सिंह का जन्म उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले के एक गांव में 13 फरवरी 1964 को हुआ. उन्होंने बुंदेलखंड के जालौन को अपनी कर्मभूमि बनाया और यहीं से उनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत हुई. छात्र जीवन में ही राजनीति से जुड़े लेकिन कभी भी करिश्माई सफलता नहीं मिली. उन्होंने 1986 में उरई के डीएवी डिग्री कॉलेज में छात्र संघ चुनाव लड़ा, लेकिन जीत नहीं सके. वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ  (RSS) से जुड़ने के बाद बीजेपी की राजनीति में सक्रिय हुए और उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष पद तक पहुंचे. विधानसभा उपचुनाव में पहली परीक्षा स्वतंत्र देव सिंह की पहली परीक्षा यूपी की 12 सीटों पर होने वाली विधानसभा उपचुनाव में होगी. यूपी के 12 विधायक लोकसभा चुनाव में सांसद बन गए हैं. कुछ ही दिनों में इन सभी सीटों पर उपचुनाव होने को है. स्वतंत्र देव सिंह के सामने इस उपचुनाव में पार्टी को जीत दिलाने की चुनौती होगी. शेयर करेंLike this:Like Loading…