जानलेवा है ये बीमारी, जानिये लक्षण और बचाव के उपाय

0
2

हर साल बहुत से लोगों की मृत्यु बुखार के कारण होती है क्योंकि लोग यह नहीं पहचान पाते के उन्हे सामान्य बुखार है फिर डेंगू फीवर | इसके लिए हमें डेंगू फीवर के लक्षणों का पता होता चाहिए ताकि हम यह पता चला पाए कि कौनसा बुखार हुआ है | आइए हम आपको बताएं किस प्रकार यह जाना जा सकता है कि आपको कौनसा फीवर हुआ है|

जब भी आपका बुखार दो से तीन घंटे में उतर जाए तो बुखार सामान्य है और अगर दवाई लेने के बाद भी अगर बुखार नहीं उतरे तो आपको ब्लड टेस्ट कराना चाहिए ब्लड टेस्ट से ही पता चल पाएगा कि आपको कौनसा बुखार हुआ है|

डेंगू एक प्रकार का संक्रामक रोग है जो कि मच्छर के काटने से होता और डेंगू के मच्छर अधिकांश रूप से बारिश के दिनों में पनपते है| इसलिए बारिश के मौसम में हमें बहुत ध्यान रखना चाहिए क्योंकि उसी समय डेंगू होने कि सबसे अधिक आशंका रहती है| शरीर का तापमान सामान्य से अधिक लगभग 103 डिग्री या फिर उससे ज़्यादा होता है और बुखार लगातार ही रहता है | बहुत तेज़ सर दर्द होता है और हाथ पैरों मे भी दर्द होने लगता है| बुखार के तीन चार दिन बार शरीर पर चकते होने लगते है| ब्लड प्रेशर भी कम होने लगता है | और भी कई लक्षण प्रतीत होते है जैसे की भूख ना लगना, जी मचलना उल्टी व दस्त होना | आँखों में दर्द होना | ये सभी इस बीमारी के सामान्य लक्षण है | इसके अतिरिक्त खून में प्लॅटलेट्स की कमी होने लग जाती है और यह भी हो सकता है कि मरीज़ को प्लॅटलेट्स चढाने पड़े | कभी कभी तो प्लॅटलेट्स की मात्रा सामान्य से इतनी अधिक कम हो जाती है कि इंसान की मरने जैसी हालत हो जाती है |

अभी तक भी डेंगू का कोई टीकाकरण उपलब्ध नहीं है तो इससे बचाव का एकमात्र उपाय है कि यह जिस मच्छर के काटने से होता है उन मच्छरों से बचा जाए| इन मच्छरों को काटने से बचने के लिए हमें अपने घर के आस पास साफ सफाई रखनी चाहिए क्योंकि डेंगू के मच्छर गंदगी में पैदा होते है| डस्टबिन्स को हमेशा ढक कर रखना चाहिए | समय समय पर कीटनाशक का छिड़काव करते रहना चाहिए ताकि मच्छर ना पनपे | साफ सुथरे और पूरे वस्त्र पहनने चाहिए|

This disease is fatal, know symptoms and preventive measures

डेंगू से लड़ने और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए हमें तुलसी के पौधे लगाने चाहिए| तुलसी पौधे में पाए जाने वाले गुण डेंगू के मच्छरों को भगाने का कार्य करते है | आप तुलसी का काढ़ा भी बनाकर पी सकते है वह भी स्वास्थ्य के लिए अच्छा रहता है | पपीते के पत्तों का रस भी अत्यधिक लाभकारी होता है| इसका सेवन करने से प्लॅटलेट्स की मात्रा को बढ़ाया जा सकता है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here