नजरबंदी के दौरान हिरासत में ही झगड़े उमर-महबूबा, दूसरी जगह किए गए शिफ्ट…

0
1



नई दिल्ली. आर्टिकल 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर (Jamuu Kashmir) में शांति का माहौल है. कड़ी सुरक्षा के बीच जम्मू-कश्मीर में ईद का पर्व मनाया जा रहा है. संवेदनशील इलाकों में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती की गई है. जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 (Article 370) को हटाए जाने के बाद से ही सियासी उठापटक का दौर लगातार जारी है. पिछले हफ्ते से वहां कई नेता नज़रबंद है. जम्‍मू-कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने से पहले हिरासत में लिए गए पूर्व मुख्‍यमंत्री उमर अब्‍दुल्‍ला (Omar Abdullaa) और महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) आपस में उलझ गए. हिरासत में ही दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि बाद में दोनों को अलग करना पड़ा. बताया जा रहा है कि दोनों इस बात के लिए लड़ रहे थे कि भारतीय जनता पार्टी को जम्‍मू-कश्‍मीर में कौन लेकर आया. एक-दूसरे पर लगाया आरोप
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक झगड़े को दौरान दोनों नेताओं ने एक-दूसरे पर जम्मू कश्मीर में बीजेपी को लाने का आरोप लगाया. एक अधिकारी के मुताबिक उमर अब्दुल्ला ने महबूबा पर चिल्लाते हुए कहा कि उनके पिता मुफ्ती मोहम्मद ने 2015 से 2018 के बीच बीजेपी से साठ-गांठ किया था. महबूबा ने उमर अब्‍दुल्‍ला को याद दिलाया कि फारूक अब्दुल्ला अटल बिहारी वाजपेयी के समय में बीजेपी से गठबंधन किया था और बाप-बेटे उनकी सरकार में मंत्री भी रहे थे. महबूबा ने उमर अब्दुल्ला को याद दिलाते हुए कहा कि उनके पिता फारूख अब्दुल्ला और अटल बिहारी वाजपेयी के बीच गठबंधन था. उन्होंने ये भी कहा कि तुम वाजपेयी की सरकार में एक जूनियर मिनिस्टर थे. इतना ही नहीं महबूबा ने उमर के दादा शेख अब्दुल्ला को भी मौजूदा हालात के लिए ज़िम्मेदार ठहराया. दोनों हरि निवास में थे- हरि निवास में उमर अब्दुल्ला ग्राउंड फ्लोर में रह रहे थे, जबकि महबूबा पहली मंजिल पर थीं. फिलहाल झगड़े के बाद अब्दुल्ला को फॉरेस्ट डिपार्टमेंट के गेस्ट हाउस में शिफ्ट कर दिया गया है. जबकि महबूबा अभी भी हरि निवास में है. ये वहीं जगह है जिसे पहले मुख्यमंत्री आवास के तौर पर बनाया गया था और गुलाम नबी आजाद मुख्यमंत्री यहां रहे भी थे. लेकिन बाद में यहां कोई नहीं रहा इसके बाद इसे गेस्ट हाउस में बदल दिया गया. दोनों के बीच विवाद बढ़ने के बाद अफसरों ने तय किया कि दोनों को अलग रखा जाएगा. उसके बाद उमर अब्‍दुल्‍ला को महादेव पहाड़ी के पास चेश्माशाही में वन विभाग के भवन में तो महबूबा हरि निवास महल में ही रह रही हैं. शेयर करेंLike this:Like Loading…