बाबरी विध्वंस केस- फैसला सुनाने तक रिटायर नहीं होंगे जज- Supreme Court

0
16



नई दिल्ली. सोमवार को अयोध्या स्थित बाबरी मस्जिद (Babri Masjid) को ढहाने के मामले में चल रहे मुकदमे के जज के रिटायरमेंट को लेकर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने बड़ा फैसला सुनाया है. अयोध्या विवादित ढांचा ढहाने की साजिश के मामले में सुनवाई 6 महीने के लिए टल गई. सुप्रीम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश की सरकार को आदेश दिया है कि जब तक इस मामले पर फैसला न आ जाए तब तक सीबीआई (CBI Judge) जज रिटायर न हों. सीबीआई के जज एसके यादव (SK Yadav) हैं और उन्हें 30 सितंबर को रिटायर होना है. सीबीआई जज एसके यादव जब तक फैसला नहीं देते, तब तक उन्हें रिटायर न किया जाए. CBI जज एसके यादव ने कोर्ट को पत्र लिखकर मामले की सुनवाई पूरी करने के लिए 6 महीने का और समय मांगा है. कोर्ट ने यूपी सरकार को 19 जुलाई तक ये बताने को कहा कि पूरे मामले की सुनवाई कर रहे जज के रिटायर होने पर क्या नियम और कानून हैं. बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में लखनऊ की निचली अदलत में लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, विनय कटियार जैसे बीजेपी के बड़े नेताओं के खिलाफ मकुदमा चल रहा है. सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया गया कि ट्रायल कोर्ट के जज को 30 सितंबर को रिटायर होना था, लेकिन उन्होंने मुकदमे को पूरा करने के लिए और समय मांगा है. कोर्ट ने रायबरेली और लखनऊ की अदालत में लंबित इन दोनों मुकदमों को मिलाने और लखनऊ में ही इस पर सुनवाई का आदेश दिया था. शेयर करें