रोजगार पैदा करने पर होगा जोर…

0
1



मोदी सरकार 2 में पूर्व रक्षा मंत्री और वर्तमान की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज बजट पेश करेंगी. माना जा रहा है कि इस बजट में रोजगार बढ़ाने पर सरकार का फोकस रह सकता है. देशभर की नजरें आज पेश होने वाले इस बजट पर टीकी हुई हैं. नौकरी, रोजगार, कृषि समेद कई मुद्दों को लेकर ये बजट होगा. अब देखना होगा की निर्मला के पिटारे से जनता के लिए क्या निकलता है. मोदी सरकार इस बार चुनावों में प्रचंड बहुमत के साथ वापस आई है. इन चुनावों को जीतने के बाद सरकार पर कई तरह की जिम्मेदारियां और चुनौतियां हैं. … इसमें सबसे पहले नंबर आता है नौकरी और रोजगार का. सरकार पर आरोप है कि नौकरी-रोजगार पैदा करने में वो सफल नहीं हो सकी है. इस सरकार को लाखों जॉब्स पैदा करने के लिए अर्थव्यवस्था में बड़े स्तर पर निवेश करना होगा. इस काम को पूरा करने के लिए सरकार के पास पूंजी होना भी जरूरी है. साथ ही निवेश को लेकर भी सरकार को सोचना होगा की जबतक निवेश नहीं होगा तबतक नौकरी नहीं होगी. रोजगार सृजन मुख्य मुद्दा
बजट में रोजागार पैदा करने को लेकर सभी की नजरे होंगी. ये सरकार के लिए बड़ा मुद्दा है. हाल ही में एक सरकारी रिपोर्ट की मानें तो बीते 45 सालों में बेरोजगारी अपने चरम पर पहुंची हुई है. ऐसे में सरकार द्वारा रोजगार पैदा नहीं कर पाना अपने आप में विफलता का पैमाना है. वहीं एक्सपर्ट्स का मानना है कि विकास की धीमी रफ्तार की एक बड़ी और प्रमुख वजह नई नौकरियों का न हो पाना भी है. वहीं कल पेश हुए आर्थिक सर्वे का जिक्र करें तो उसमें भी कहा गया है कि रोजगार सृजन के लिए सरकार को बड़े पैमाने पर निवेश करना पडेगा. शेयर करें