लाल बाग के राजा के संग सहस्त्र भुजाओं वाली मां देंगी दर्शन, इस मंदिर में होगा आयोजन

0
2



बेगूसराय, 11 सितम्बर. 29 सितम्बर से आठ अक्टूबर तक होने वाले शारदीय नवरात्र की तैयारियां तेज हो गई हैं. 29 सितम्बर को कलश स्थापना के साथ ही मां दुर्गा हाथी पर सवार होकर आएंगी और अगले नौ दिन तक विराजमान होकर लोगों को अपना आशीर्वाद देंगी. इस बार बेगूसराय में मां दुर्गा का नया रूप देखने को मिलेगा. यहां विष्णुपुर में लाल बाग के राजा के संग मां सहस्त्र भुजाओं के रूप में भक्तों को दर्शन देंगी. नवरात्रि पूजा के लिए मंदिरों में रंग रोगन के बाद मां भगवती दुर्गा की प्रतिमा का निर्माण कार्य जोर-शोर से चल रहा है. वहीं, पंडालों को भी आकर्षक रूप देने के लिए काम शुरू हो गया है. कहीं भारत माता के स्वरूप बनाये जा रहे हैं तो कहीं दिखेगा लाल किला. इस बीच बेगूसराय इस बार फिर एक नया इतिहास रचने जा रहा है. बेगूसराय के विष्णुपुर स्थित किरण सार्वजनिक दुर्गा मंदिर में इस बार लालबाग के राजा के संग सहस्त्र भुजाओं वाली मां दुर्गा पधार रही हैं. सहस्त्र भुजा वाली मां दुर्गा की प्रतिमा निर्माण का काम मूर्तिकार विक्की की टीम के नेतृत्व में कोलकाता के इंजीनियर की देखरेख में करीब छह माह से चल रहा है. माता दुर्गा की विशालकाय प्रतिमा के साथ 1111 भुजाएं बन कर तैयार हो चुकी है, फिनिशिंग कार्य चल रहा है. दुर्गा पूजा के दौरान भक्तजनों को विष्णुपुर में पहुंचते ही गेट पर भारत माता दिखेगी और अंदर जाते ही बाहर में सहस्त्र भुजाओं वाली मां दुर्गा के साथ लाल बाग के राजा गणेश के दर्शन होंगे. मुंबई के लाल बाग की तर्ज पर यहां भी गणेशजी की प्रतिमा का निर्माण चल रहा है. जबकि मंदिर के अंदर मौजूद रहने वाली प्रतिमाओं में से मुख्य प्रतिमा एक सौ भुजाओं का बनाया जा रहा है. इसके साथ 24 भुजा, 18 भुजा, दस भुजा, आठ भुजा, चारभुजा एवं दो भुजा वाली मां भगवती प्रतिमा के साथ-साथ सभी अन्य देवी देवता भी साक्षात मौजूद रहेंगे. व्यवस्था निर्माण में लगे विजय झा बताते हैं कि यहां सहस्त्र भुजाओं वाली 1111 भुजाओं वाली मां भगवती की प्रतिमा बनाई जा रही है. देश में कहीं भी अब तक इतनी विशाल प्रतिमा दुर्गा पूजा में नहीं बनी है. उन्होंने बताया कि लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में भी इस प्रतिमा को शामिल कराए जाने का प्रयास किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि इससे पहले 2016 में कोलकाता में एक हजार भुजा वाली तथा 2017 में अगरतला में 11 सौ भुजाओं वाले मां भगवती की प्रतिमा बनाई गई थी. ब्रह्मवैवर्त पुराण में सहस्त्र भुजाओं वाली भगवती की चर्चा है. जिसको देखकर यहां इस बार पिछले छह महीनों से छह कलाकार मिलकर इस विशालकाय प्रतिमा निर्माण में लगे हुए हैं. बता दें कि किरण सार्वजनिक दुर्गा मंदिर में 2010 से ही पूजा के दौरान कुछ अलग तरह के प्रयास किए जा रहे हैं. 2018 में मौजूद ग्रंथ के अनुसार सभी देवी देवता को सपरिवार यहां बैठाया गया था. ऐसे चलेगा पूजन कार्यक्रम
प्रथम दिन 29 सितंबर का मां के प्रथम स्वरूप माता शैलपुत्री की पूजा होगी. जबकि चार अक्टूबर को मां के कात्यायनी स्वरूप की पूजा के साथ विल्ब निमंत्रण दिया जाएगा. पांच अक्टूबर को निशा पूजा, छह अक्टूबर को जागरण तथा सात अक्टूबर को हवन कार्यक्रम होगा. आठ अक्टूबर को विजयादशमी के साथ ही मां दुर्गा मुर्गा पर सवार होकर पुनः अगले साल आने के लिए प्रस्थान कर जाएगी. ../सुरेन्द्र शेयर करेंLike this:Like Loading…