सेना नहीं इनके सहयोग से होती है अमरनाथ यात्रा- Satyapal Malik

0
1



जम्मू कश्मीर में अमरनाथ यात्रा की शुरूआत हो चुकी है. वहीं जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने इस यात्रा के संचालन के लिए स्थानीय लोगों का धन्यवाद दिया है. उन्होंने रविवार को कहा कि अमरनाथ यात्रा का सुचारू रूप से संचालन करने में स्थानीय मुस्लिमों का महत्वपूर्ण रोल रहता है. इनकी भूमिका प्रशंसा के काबिल है. उन्होंने कहा कि सरकार सिर्फ सुरक्षा का पहलु देखती है. इसका असल आयोजन स्थानीय लोगों के सहयोग से होता है. उन्होंने कहा कि कश्मीर के लोगों के सहयोग से ही यात्रा का पूर्ण हो पाती है. साथ ही उन्होंने ये उम्मीद भी जताई की इस बार की यात्रा भी सफल रहेगी. उन्होंने कहा कि यात्रा की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है. हम इसका ख्याल रख रहे हैं. वैसे इस यात्रा का असल संचालन सेना, पुलिस या सुरक्षा बल नहीं करते हैं. इसे कश्मीर के लोगों के जरिए ही पूरा किया जाता है. इसमें मुस्लिम भाईयों का खास रोल होता है. अगर हम हमेशा साथ मिलकर काम करें तो ये यात्रा हमेशा सफल होगी. आज से शुरू हुई यात्रा आज से बाबा बर्फानी यानी अमरनाथ यात्रा की शुरूआत हो गई है. कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच श्रद्धालु शिवलिंग तक पहुंच रहे हैं. आज सुबह 7 बजे श्रद्धालुओं ने जम्मू कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के साथ पहली पूजा की. इस यात्रा में एक दिन में लगभग 15 हजार श्रद्धालु करेंगे दर्शन रविवार को निकले जत्थे में पारंपरिक पहलगाम और बालटाल रूट के यात्री शामिल हैं. वहीं श्रद्धालुओं ने कहा कि उन्हें इस यात्रा में जाने का कोई डर या खतरा नहीं हैं. यात्रियों ने मीडिया को बताया कि उन्हें सिर्फ भगवान शिव पर ही नहीं बल्कि सेना पर भी पूरा भरोसा है. वहीं इस यात्रा पर गए श्रद्धालुओं को अब बाबा बर्फानी के दर्शन होंगे. एक दिन में ज्यादा से ज्यादा 15 हजार श्रद्धालु बाबा बर्फानी के दर्शन कर सकेंगे. शेयर करें