19 साल में दूसरी बार ICJ में भारत से हारा पाक, क्या था वो मामला?

0
1



ICJ में 17 जुलाई 2019 यानी आज एक बार फिर वही हुआ जो आज से 20 साल पहले यानी 21 जून 2000 हुआ था. 19 साल पहले एक मामले को लेकर भारत के खिलाफ पाकिस्तान ने ICJ का दरवाजा खटखटाया था, और उसे मुंह की खानी पड़ी थी. दरअसल 10 अगस्त 1999 को भारतीय वायुसेना ने गुजरात के कच्छ में पाकिस्तान के एयरक्राफ्ट को मार गिराया था. इसमें विमान में सवार सभी 16 लोगों की मौत भी हो गई थी. पाकिस्तान का आरोप था कि उनका जहाज उनकी सीमा के अंदर था. और भारत ने उसे मारने के लिए मिसाइल का इस्तेमाल किया है. पाकिस्तान ने इस मामले में भारत से 6 करोड़ डॉलर के मुआवजे की मांग की थी. इस मामले में भी ICJ ने पाकिस्तान के दावों को खारिज कर दिया था. 16 जजों की बेंच ने 14-2 के बहुमत से फैसला भारत के पक्ष में दिया था. कुलभूषण मामले में भी हुई हार कुलभूषण मामले में भी ICJ में पाकिस्तान की हार हुई है. ICJ ने कुलभूषण की फांसी पर रोक लगाते हुए पाकिस्तान को एक बार फिर से फैसले पर समीक्षा करने का आदेश दिया है. पाकिस्तान में जासूसी के आरोप में कैद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को फांसी देने पर नीदरलैंड के हेग में स्थित अंतरराष्ट्रीय न्यायालय रोक लगा दी है. पाकिस्तान को अपने फैसले पर अब पुनर्विचार करना होगा. कोर्ट ने कहा कि काउंसलर एक्सेस मिलना कुलभूषण का अधिकार है. कोर्ट के अध्यक्ष जस्टिस अब्दुलकावी अहमद यूसुफ ने कहा कि जब तक पाकिस्तान प्रभावी ढंग से फैसले की समीक्षा और उस पर पुनर्विचार नहीं कर लेता, फांसी पर रोक जारी रहेगी. कोर्ट के अध्यक्ष सोमालिया के जस्टिस अब्दुलकावी अहमद यूसुफ ने फैसला पढ़ा. उन्होंने 42 पन्नों के फैसले में कहा कि पाकिस्तान जब तक पाकिस्तान प्रभावी ढंग से अपने फैसले की समीक्षा और पुनर्विचार नहीं कर लेता है, तब तक कुलभूषण की फांसी पर रोक रहेगी. शेयर करेंLike this:Like Loading…