FATF की लिस्ट में पाक की हालत खराब, टेरर फंडिंग पर चेहरा हुआ बेनकाब…

0
20



एशिया पैसिफिक ऑन मनी लॉन्ड्रिंग (एपीजी) ने शनिवार को मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फंडिंग पर अपनी रिपोर्ट जारी कर दी है. दुनिया भर में टेरर फंडिंग पर नजर रखने वाली संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ, FATF) के सालाना अधिवेशन से एक हफ्ते पहले ही ये रिपोर्ट जारी हुई है. इस रिपोर्ट के बाद पाकिस्तान की ग्रे लिस्ट की स्थिति पर भी फैसला होगा. FATF का कहना है कि एशिया पैसिफिक ग्रुप ने कहा कि पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सिक्यॉरिटी काउंसिल रेजॉल्यूशन 1267 को लागू करने के लिए सही कदम नहीं उठाए है. ऐसे में पाकिस्तान के लिए ये एक बड़ा झटका है. बैठक में इस पर भी निर्णय होगा कि पाक को ब्लैकलिस्ट करने की दिशा में ठोस कारण है या नहीं. रिपोर्ट में ऐसी रही पाक की रेटिंग एपीजी की रिपोर्ट में पाकिस्तान की रेटिंग काफी कम है. इस रेटिंग में पाक को 10 में से 9 अंक मिले हैं. जो काफी ज्यादा है. ऐसे में पाक पूरी तरह से फिसड्डी साबित हुआ है. ब्लैकलिस्ट हो सकता है पाक अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, इंग्लैंड जैसे बड़े देशों की तरफ से बने लगातार दबाव के बाद से एफएटीएफ पाकिस्तान को संदिग्ध सूची में शामिल कर चुका है. जून 2018 को पाकिस्तान इस सूची में शामिल हुआ. एपीजी की तरफ से पाकिस्तान के खिलाफ कई ऐसे तथ्य भी पाए गए जिनके बाद नकारात्मक रडार पर रखा जाएगा. यानी की आने वाले समय में पाकिस्तान की दिक्कतें और भी ज्यादा बढ़ने वाली हैं. दरअसल जब 2018 में पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में डाला गया था. उसके बाद उसे 15 महीनों में 27 बिंदुओं पर काम करना था. इन 15 महीनों का समय सितंबर में पूरा हो गया है. ऐसे में आखिरी फैसला ही आएगा. इस सूची में नाम आने के बाद पाकिस्तान संदिग्ध ही बना रहेगा. इसे ब्लैकलिस्ट करने की प्रक्रिया भी शुरू हो जाएगी. शेयर करेंLike this:Like Loading…